फादर्स डे की रौनक से जगमगा उठा फोकस हर लाइफ वाराणसी क्लब,आइये जाने क्या है खास

फोकस हर लाइफ के वराणसी फैन क्लब में फादर्स डे पर सभी ने अपने फादर्स को तहे दिल से याद किया , आइये देखे उसकी कुछ झलकियां
फादर्स डे की रौनक से जगमगा उठा फोकस हर लाइफ वाराणसी क्लब,आइये जाने क्या है खास

फीचर्स डेस्क। पिता हमारे जीवन का आधार स्तम्भ है। मदर हुड की बातें तो बहुत होती है पर फादर हुड , एक पिता का संघर्ष , उनके इमोशंस ,सैक्रिफाइस, पेरेंटिंग के अपने अनोखे तरीके को कम ही एकनॉलेज किया जाता है। ऐसे में फोकस हर लाइफ ने इस फादर्स डे अपने वाराणसी फैन क्लब के साथ मिलकर पिता के लिए उनके बच्चो  के जज़्बातों को सामने लाने का प्रयास किया है। फादर्स डे अपने पिता को स्पेशल महसूस कराने का दिन होता है। इस दिन बच्चे अपने पिता के प्रति अपने आदर को अलग अलग तरह से एक्सप्रेस करते हैं। फादर्स डे अंतर्राष्ट्रीय तौर पर मनाया जाने वाला दिन है, इसलिए यह इसी दिन पूरे विश्व में एक साथ मनाया जाता है। फादर्स डे प्रतिवर्ष जून के तीसरे रविवार को मनाया जाता है। आइये जानते हैं वाराणसी हर क्लब के एक्टिव सदस्यों की अपनी पिता की लिए की गयी अभिव्यक्ति को...

स्वाति दुबे का कहना है पापा आप घर की रौनक,आप हमारी शान हैं। माँ के हैं आप सखा और हमारी जान हैं। सच ही कह रही है स्वाति घर में पिता हो तो सब कुछ होने का एहसास होता है। विनीता पांडेय कहती हैं मेरी रब से एक गुज़ारिश है , छोटी सी लगानी  एक सिफारिश है। रहे जीवन भर खुश मेरे पापा बस इतनी सी मेरी ख्वाइश हैं। शायद यही ख्वाइश सभी बच्चों की होती है। 

इस फादर्स डे ऋषिका वर्मा अपने पिता को बताना चाह रही हैं कि पापा आप कभी जताते नहीं लेकिन आप हम सब से बहुत प्यार करते हैं। आप हमारे लिए एक सुपर हीरो हो एंड वी लव यू पापा ! दरअसल पिता का व्यक्तित्व होता ही ऐसा है ऊपर से सख्त अंदर से नरम। वहीं रश्मि सिंह अपने पापा का आभार व्यक्त करती हुई बताती हैं की मेरे जीवन में प्यार का आधार , मेरी सारी समस्यांओं के समाधानकर्ता , मेरा विश्वास ,मेरे पापा हैं।  

पूनम तिवारी अपने पापा को याद करते हुए कहती है कि पापा थे तो सारे सपने थे। पूजा श्रीवास्तव बताती है कि पापा ने उन्हें हमेशा परियों की तरह लाड दुलार किया और वो आज भी अपने पापा की परी हैं। सुमन मिश्रा पिता के महत्व को समझते हुए इस फादर्स डे ईश्वर से कह रही है भगवन एक अर्ज सुन लेना पापा की उम्र बढ़ा देना। मै उनकी छत्रछाया में यूँ ही सदा फलती फूलती रहूँ।  

पापा की सीख को याद करते हुए लिली सेठ कहती की मेरे लिए मेरे पापा सब कुछ हैं उन्होंने मुझे हमेशा सब के साथ प्यार से रहना सिखाया है। शैली टंडन का कहना है , मेरे पिता मेरे स्वाभिमान हैं। अपने पिता की बातों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उनके पिता ने हर परिस्थिति में सर ऊँचा करके जीना सिखाया है इसलिए वो आज एक सफल और सुखद जीवन जी रही हैं।    

मंजुला चौधरी अपने पिता को याद करते हुए कहती हैं पिता के मूक अधिरवाद से हंसती है जिंदगी ,दूर-दूर तक घर में दुःख को आने नहीं देती है जिंदगी। सच ही है पिता बच्चों की खुशियों के स्रोत हैं। कृति सचदेवा कहती है मै पापा की दुलारी हूँ , वही मेरी पहचान हैं , मेरी जमीं और असमान हैं।       

फोकस हर लाइफ की इस पहल में आप सब का बढ़ चढ़ का हिस्सा लेने के लिए शुक्रिया, आप सभी को फादर्स डे की बधाई !       

ऐसी ही इंट्रेस्टिंग एक्टिविटीज में पार्टिसिपेट करने के लिए जुडी रहे आप की https://www.focusherlife.com/index.html अपनी के साथ 


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं