शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल

नवरात्री पर फोकस हर लाइफ आप के लिए ले कर आया है एक स्पेशल सीरीज " शक्ति स्वरूपा " जिसमे हम सोसाइटी में ऑड्स से लड़ कर अपना मुकाम बनाने और समाज के लिए काम करने वाली आम महिलाओं की कहानियां ले कर आ रहे है। आज हम मिलेंगे हमारी ही जैसी एक महिला ईरा सिंघल से जिसने अपनी हॉबी को बनाया अपना पैशन और पैशन को बनाया अपना प्रोफेशन। कैसे एक आम महिला भी अपनी खास पहचान बना सकती है,ये जानिए ईरा की स्टोरी से..........….
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल
शक्ति स्वरूपा: छोड़ी बैंक की नौकरी और किचन में ढूंढा अपना प्रोफेशन,हजारों होम शेफ की इंस्पिरेशन बन गई है ईरा सिंघल

फीचर्स डेस्क। नवरात्रि का त्यौहार जिसमे हम करते है मां की उपासना। मां का एक रूप तो हम सब रोज जीते है, वो है अन्नपूर्णा का। अपने परिवार की भूख शांत करते है हम। उनको स्वादिष्ट भोजन कराते है हम। पर क्या कभी आपने सोचा है कि ये ही पाक कला आपको एक आम महिला से खास बना सकती है। जी हां अगर आप सपने देखती है तो उसे पूरा करने का हौसला भी रखिए। जैसे ईरा ने एक सपना देखा, उसे जिया और फिर उसे पूरा करने के लिए अपनी बैंक की नौकरी तक छोड़ दी। हार नहीं मानी और भीड़ से अलग अपनी एक पहचान बनाई। आज बड़े बड़े शेफ ईरा को जानते है। कैसे बनाई उन्होंने अपनी एक अलग पहचान आइए जानते है।

किचन ऑफ फ्लेवर्स क्या है

ईरा कहती है कि किचन ऑफ फ्लेवर्स मेरा सपना है। किचन ऑफ फ्लेवर सिर्फ एक फेसबुक का फूड पेज या ग्रुप नहीं बल्कि वो प्लेटफार्म है जहां सभी होम शेफ किचन के सभी फ्लेवर्स को एक साथ जोड़ सके। इस प्लेटफार्म पर होम शेफ तो है ही साथ ही कई सेलेब्रिटी शेफ भी है। जो समय समय पर हमें गाइड करते है। ईरा कहती है कि किचन ऑफ फ्लेवर पहले एक ग्रुप की तरह मैंने स्टार्ट नहीं किया था। वो मेरा एक ब्लॉग था जहां मैं अपनी रेसिपी शेयर करती थी। 2017 से 2019 तक मैं ये ही सब करती थी। फिर 2019 में मुझे मास्टर शेफ के ऑडिशन में जाने का मौका मिला। पर किन्ही कारणों से मैं वो ऑडिशन अटेंड नहीं कर पाई। फिर मेरे दिमाग में आया कि क्यों न हम ऐसा कोई कांटेस्ट स्टार्ट करें जो मास्टर शेफ लेवल का हो। तो हमने ऑर्गेनाइज किया शेफ ऑफ दिल्ली। बस यहीं से स्टार्ट हुई किचन ऑफ फ्लेवर की जर्नी।

इसे भी पढ़ें:- Navratri Special: कोलकाता के कालीघाट मंदिर के करें दर्शन,जहां माता सती के पैर की उंगलियां गिरी थी

शेफ ऑफ दिल्ली, द बिग इवेंट

ईरा बताती है कि ये इवेंट हमने ऑफलाइन किया था जिसमें ऑल ओवर इंडिया से 2000 से अधिक लोगों ने पार्ट लिया था। हमने उन लेडीज को मौका दिया था जो बड़े बड़े इवेंट में जाने का सोचती है पर जा नहीं पाती। इस इवेंट में कई बड़े शेफ आए थे जज करने के लिए। कई टीवी कलाकार भी आए थे। और इस इवेंट के द्वारा ही हम कई बड़े बड़े ब्रांड्स से जुड़े। जिसके एड हम टीवी पर देखते है उनके साथ मुझे काम करने का मौका मिला।बड़े ब्रांड जैसे अमुल, कैच मसाले, किंग्स ओनियन और भी कई ब्रांड के साथ काम किया।  

कोरोना पीड़ितों को दिया मुफ्त खाना

ईरा कहती है कि कोरोना की फर्स्ट वेव तो जैसे तैसे निकल गई पर जब सेकंड वेव आई तो बहुत लोगों के लिए मुश्किल खड़ी कर गई। जब मैं इस बीमारी की चपेट में आई तब मैंने फील किया कि जो लोग सिंगल फैमिली है उनको खाने की कितनी प्रॉब्लम होती होगी। तब जब मैं ठीक हुई तब मैंने डिसाइड किया कि मैं उन परिवारों के लिए खाना पहुचाऊंगी जो इस बीमारी से जूझ रहे है। ओवर ऑल मैंने 50 टिफिन रोज सुबह शाम लोगों को पहुंचाएं। ताकि उन परिवारों की कुछ मदद तो हो सकें। ऐसे ही मैंने अपने फ्रेंड सर्कल से कई लोगों से अप्रोच की और उन्होंने मेरा साथ दिया और अपने सिटी में लोगों को मुफ्त खाना पहुंचाया। इससे हमें पैसे तो नहीं मिले पर लोगों की दुआएं बहुत मिली जो जीवन के लिए बहुत जरूरी है।

नवरात्रि स्पेशल: स्लम एरिया के बच्चों का ज्ञान की रोशनी से जीवन रोशन कर रही है प्रतिभा सिंह

दे रही कई महिलाओं को पहचान

ईरा अपने ग्रुप के माध्यम से बड़े बड़े शेफ और होम शेफ के साथ फ्री जूम क्लास ऑर्गेनाइज करती है । कुक टुगेदर सेशन प्लान करती है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़े और सीखे। और ईरा की कोशिश यही रहती है कि लोग कुछ नया सीखे पर अपने ऑथेंटिक खाने को न भूले। आज ईरा की वजह से कई लेडीज ने घर बैठे अपना टिफिन सेंटर खोला है। कई महिलाओं ने खाने का ऑर्डर लेना शुरू किया है। जिससे वो अपने घर में आर्थिक सहयोग दे पा रही है। इन सबका श्रेय ईरा को जाता है। क्योंकि ईरा ने दिया है महिलाओं को रोजगार का जरिया जिससे वो अपने पैरों पे खड़ी होकर अपनी एक अलग पहचान बना सकती है।

संक्षिप्त परिचय

नाम..ईरा भार्गव सिंघल

हसबैंड नेम..अमित सिंघल

बेटी नाम..अमायरा, नायरा

इंस्पिरेशन.. शेफ अंजली, शेफ भसीन, शेफ अभिलाषा जैन, पति अमित सिंघल और भाई अभि भार्गव

सक्सेस मंत्र..मेहनत करो और अच्छा सोचो। सफलता अपने आप आपके पास आएगी।

ईरा मानती है आज वो जहां भी है आज वहां उनके पति और उनके भाई का हाथ है। आज वो कई बड़े ब्रांड्स के साथ शूट करती है और कई बड़े बड़े लोग उनको जानते है। इन सबके पीछे ईरा अपने परिवार का सपोर्ट मानती है। परिवार के सपोर्ट के बिना कोई आगे नहीं बढ़ सकता ऐसा ईरा का मानना है। तो आप भी ईरा के मजबूत इरादों की तरह अपने इरादे मजबूत कीजिए और अपने सपने को साकार करने का प्रयास करे। क्योंकि खाना बनाना भी कोई आसान काम नहीं है।

नवरात्री पर फोकस हर लाइफ आप के लिए ले कर आया है एक स्पेशल सीरीज " शक्ति स्वरूपा " जिसमे हम सोसाइटी में ऑड्स से लड़ कर अपना मुकाम बनाने और समाज के लिए काम करने वाली आम महिलाओं की कहानियां ले कर आ रहे है। तो पढ़ने के लिए जुड़ी रहे आपकी अपनी वेबसाइट www.focusherlife.com से।


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं