बर्थ कण्ट्रोल के अवेलेबल हैं मल्टीपल कंट्रासेप्टिव मेथड्स ,आइये जाने इनके प्रोस एंड कोन्स

बच्चो के बीच अंतर एक औरत कीअच्छी सेहत की चाभी है। मार्केट में बहुत सारे कॉन्ट्रासेप्टिव्स मौजूद हैं आप अपनी चॉइस और सुटेबलिटी के हिसाब से किसी को भी चुन सकती है। जानने के लिए पढ़े पूरा आर्टिकल
बर्थ कण्ट्रोल के अवेलेबल हैं मल्टीपल कंट्रासेप्टिव मेथड्स ,आइये जाने इनके प्रोस एंड कोन्स

फीचर्स डेस्क। सीमित परिवार आज के समय की मांग है। साथ ही महिलाओं की सेहत और परिवार की खुशहाली की कुंजी भी। मेडिकल साइंस की तरक्की से अच्छी बात ये है कि अब कॉन्ट्रासेप्टिव्स के कई विकल्प उपलब्ध हैं, जिनके जरिए बर्थ कंट्रोल किया जा सकता है। कपल्स अपनी जरूरत के हिसाब से कॉन्ट्रासेप्टिव को ऑप्ट कर सकते हैं। बर्थ कंट्रोल या कॉन्ट्रासेप्शन को आमतौर पर दो कैटेगरी में बांटा गया है- रिवर्सिबल मतलब टेम्पररी  और इररिवर्सिबल मतलब परमानेंट मेथड। ये ना आपको सिफर सेक्सुअल फ्रीडम देते हैं बल्कि आपसी रिश्ते भी प्रगाढ़ करते हैं। आइये विस्तार से जानते हैं इन मेथड्स के बारे में

रिवर्सेबल मेथड्स

रिवर्सेबल मेथड्स  में कॉपर टी और कंडोम काफी लोकप्रिय हैं ये बैरियर मेथड में आते हैं इसके अलावा ओरल पिल्स भी ले जा सकती है।    ​

बैरियर मैथड

बैरियर मैथड के जरिए स्पर्म को एग तक पहुंचने से रोका जाता है। इसके लिए या तो बैरियर बनाया जाता है या फिर स्पर्म का एग तक प्रवाह रोका जाता है। बैरियर कॉन्ट्रासेप्टिप्स के तहत कंडोम्स का उदाहरण लिया जा सकता है। बैरियर मैथड से सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज से भी सुरक्षा संभव होती है, जबकि दूसरे तरीके से ऐसा संभव नहीं है। युवा कपल्स कंडोम्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा करते हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी रोकने में ये दूसरे तरीकों की तुलना में उतना असरदार नहीं है।

इंट्रायूटेराइन डिवाइसेस (आईयूडी)

ये छोटे डिवाइस होते हैं, जिन्हें ट्रेंड प्रोफेशनल्स के जरिए यूट्रस के भीतर डाला जाता है। ये डिवाइस यूट्रस में एग के फर्टिलाइजेशन होने की प्रक्रिया को रोक देते हैं। जो महिलाएं अपनी प्रेग्नेंसी डिले करना चाहती हैं या फिर जो महिलाएं अपने बच्चों के बीच पर्याप्त अंतर चाहती हैं, उनके लिए यह तरीका बहुत उपयुक्त है। इस तरीके में डिवाइस पर कॉपर या हार्मोन हो सकता है। कॉपर टी (जो टी शेप का होता है), महिलाओं में काफी ज्यादा लोकप्रिय है। यह कॉन्ट्रासेप्शन का प्रभावी तरीका है, इसे लगवाने के बाद महिलाएं कई साल के लिए निश्चिंत हो जाती हैं। जब महिलाएं अपना परिवार आगे बढ़ाना चाहती हैं तो वे आईयूडी हटवा सकती हैं।

इसे भी पढ़े - मेनोपॉज़ की परेशानियों को दूर करने के लिए लें , ये विटामिन्स और मिनरल्स

हार्मोनल बर्थ कंट्रोल मेथड

कॉन्ट्रासेप्शन के इस तरीके में या तो ओव्यूलेशन की प्रक्रिया पर रोक लगाई जाती है या फिर एग का फर्टिलाइजेशन रोका जाता है। इसके लिए बर्थ कंट्रोल पिल्स ली जाती हैं। गर्भनिरोध की इन गोलियों में हार्मोन्स का कॉम्बिनेशन होता है। हालांकि इन गोलियों को लेकर कई तरह के मिथ भी प्रचलित हैं, लेकिन इन्हें लेना सेफ होता है। हार्मोनल मेथड में ओरल पिल्स, इंजेक्शंस, इंप्लांट और हार्मोनल आईयूडीज आदि शामिल हैं।

लॉन्ग टर्म रिवर्सिबल कॉन्ट्रासेप्शन मेथड

रिवर्सिबल कॉन्ट्रासेप्टिव्स के तहत कई तरह के गर्भनिरोध के तरीके अपनाए जा सकते हैं और ये तरीके भी प्रेग्नेंसी रोकने में काफी असरदार होते हैं। गोलियों की तुलना में इन्हें रोजाना लेने की जरूरत नहीं होती। इनमें इंट्रायूटेराइन डिवाइस, जिनमें कॉपर और हार्मोनल, हर तीन महीने पर इंजेक्शन से ली जाने वाली दवाएं, सबडर्मल इंप्लांट, जिन्हें स्किन के भीतर लगाया जाता है, शामिल हैं। जब आप प्रेग्नेंट होना चाहें तो इन डिवाइसेस को हटवा सकती हैं। 

इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्शन

अगर असुरक्षित यौन संबंध बनाए जाते हैं, तो उसके बाद अनवॉन्टेड प्रेग्नेंसी से बचाव के लिए इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव का इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि इसका दुरुपयोग बहुत ज्यादा होता है और अगर इसे नियमित रूप से और लंबे समय तक लिया जाए तो इससे कई तरह के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। इसे सिर्फ इमरजेंसी की स्थितियों में लेना चाहिए। अगर असुरक्षित यौन संबंध बनाए गए हैं तो उसके 72 घंटों के भीतर ये दवा ले लेनी चाहिए, क्योंकि शरीर में इस अवधि में ओव्यूलेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। अगर यह दवा देरी से ली जाए तो यह बेसअर साबित होती है।

परमानैंट मेथड्स

अगर आपकी  की फॅमिली कम्पलीट हो चुकी है तो आप निश्चिंत होकर गर्भनिरोध के परमानैंट मेथड्स अपना सकती है। इसके बाद आपको एक अलग ही तरह का सुकून मिलेगा।

स्टर्लाइजेशन

स्टर्लजाइजेशन के बाद महिलाएं हमेशा के लिए निश्चिंत हो जाती हैं, क्योंकि यह गर्भनिरोध का स्थाई तरीका ( इररिवर्सिबल कॉन्ट्रासेप्शन ) है। स्टर्लाइजेशन के लिए सर्जरी की जाती है। महिलाओं की फेलोपियन ट्यूब्स को बांध दिया जाता है और पुरुषों में vasectomy की प्रक्रिया अपनाई जाती है।

हर महिला का शरीर अलग होता है, खासतौर पर अगर उन्हें किसी तरह की हेल्थ प्रॉब्लम है, तो उसके लिए गर्भनिरोध का जो तरीका बेहतर हो, वह दूसरी महिला के लिए शायद उतना कारगर सिद्ध ना हो। इसीलिए महिलाओं को यह सलाह दी जाती है कि वे ट्रेंड मेडिकल प्रोफेशनल से बर्थ कंट्रोल के हर तरीके के फायदे और नुकसान के बारे में समझ लें , उसके बाद ही निर्णय लें।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। हेल्थ से जुड़ी अन्य अपडेट्स के लिए विजिट करती रहें https://www.focusherlife.com/index.html से  

 

 

 


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं