माँ कि बातें आज भी याद हैं : दो माओं का प्यार मिला

माँ कि बातें आज भी याद हैं : दो माओं का प्यार मिला

फीचर्स डेस्क। इस साल 9 मई को मदर्स डे है। वैसे तो मेरे देश में माँ का कोई मोल नहीं और ना ही कोई कर्ज उतार सकता है माँ का। फिर भी फोकस हर लाइफ लखनऊ क्लब शाखा की मेम्बर्स ने अपनी माँ के लिए कुछ चंद लाइने लेख के रूप में, कविता के रूप में, उनकी बताई बातें, उनकी कुछ यादगार पल हमारे साथ शेयर करने की बहुत सुंदर कोशिश की है। दरअसल, इनके इस प्रयास में और अच्छा कुछ करने की प्रोत्साहन के लिए focusherlife जो की एक वोमेंस स्पेशल हिन्दी आर्टिकल वेबसाइट हैं, एक “माँ कि बातें आज भी याद हैं” प्रतियोगिता रखी हैं। जिसमे सभी मेम्बर को अपनी माँ के लिए कुछ न कुछ लाइन लिखनी हैं। इस प्रतियोगिता का रिजल्ट 15 मई को घोषित किया जाएगा। जिसमे 3 विनर को मिलेगे प्राइज़। इसी क्रम में अगली प्रतियोगी हैं रुपाली चोपड़ा, जिन्होने माँ की बात याद कर के लिखा कि-

माँ वह शब्द है जिसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता, मैं बहुत भाग्यशाली हूँ कि मेरे पास दो माँ हैँ।   एक वो जिसने हमें नौ महीने पेट में रखा और तीन साल अपने हाथों में और जिंदगी भर अपने दिल में, और दूसरी माँ मेरी सास जिन्होंने कभी अकेला नहीं छोड़ा।  मेरे इस घर में आने के बाद उन्होंने गले लगाकर बोला आज से मैं ही तुम्हारी माँ हूँ।  सास का रिश्ता जितना ऊपर से कठोर उतना ही अंदर से नरम होता है।  मेरी सास मेरी बैकबोन हैँ कभी मुझे गिरने नहीं देती, टूटने नहीं देती हमेशा मेरा ख्याल रखती हैँ।  मेरा हौसला बढाती हैँ मेरी ढाल बनकर खड़ी रहती हैँ । मेरे लिए उनका अथाह प्रेम शब्दों में नहीं समायेगा, मेरी दोनों माँ से ही मेरा वजूद है, मैं हर जन्म में इनके ही आंचल के छाव में रहना चाहूंगी! मैं ईश्वर से यही मांगूंगी मेरी भी उम्र मेरी दोनों माँ को लग जाय, हैप्पी मदर्स डे

रुपाली चोपड़ा, मेंबर ऑफ़ फोकस हर लाइफ क्लब , लखनऊ शाखा


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं