माँ कि बातें आज भी याद हैं: मां ने अपने संस्कारों से हमें संवारा

मां, एक ऐसा छोटा सा शब्द शब्द जिसके व्याख्यान के लिए दुनिया में असंख्य शब्द और वाक्य भी कम पड़ जाएंगे, एक इंसान अगर किसी काबिल होता है तो उसके पीछे उसकी मां के दिए हुए संस्कार होते हैं l
माँ कि बातें आज भी याद हैं: मां ने अपने संस्कारों से हमें संवारा

फीचर्स डेस्क। इस साल 9 मई को मदर्स डे है। वैसे तो मेरे देश में माँ का कोई मोल नहीं और ना ही कोई कर्ज उतार सकता है माँ का। फिर भी फोकस हर लाइफ लखनऊ क्लब शाखा की मेम्बर्स ने अपनी माँ के लिए कुछ चंद लाइने लेख के रूप में, कविता के रूप में, उनकी बताई बातें, उनकी कुछ यादगार पल हमारे साथ शेयर करने की बहुत सुंदर कोशिश की है। दरअसल, इनके इस प्रयास में और अच्छा कुछ करने की प्रोत्साहन के लिए focusherlife जो की एक वोमेंस स्पेशल हिन्दी आर्टिकल वेबसाइट हैं, एक “माँ कि बातें आज भी याद हैं” प्रतियोगिता रखी हैं। जिसमे सभी मेम्बर को अपनी माँ के लिए कुछ न कुछ लाइन लिखनी हैं। इस प्रतियोगिता का रिजल्ट 15 मई को घोषित किया जाएगा। जिसमे 3 विनर को मिलेगे प्राइज़। इसी क्रम में अगली प्रतियोगी हैं हेमा खत्री जिन्होने माँ की बात याद कर के लिखा कि-

मां, एक ऐसा छोटा सा शब्द शब्द जिसके व्याख्यान के लिए दुनिया में असंख्य शब्द और वाक्य भी कम पड़ जाएंगे, एक इंसान अगर किसी  काबिल होता है तो उसके पीछे उसकी मां के दिए हुए संस्कार होते हैं l मुझे अपनी मां की बातें उनका दुलार और वह प्यार आज भी नहीं भूलता , हम चाहे जितने भी बड़े हो जाएं सच्चा सुकून तो मां की गोद में ही आता है,, जब भी मैं अपनी शरारतों से  अपनी मां से डांट खाती थी तो  उनका एक ही कहना होता था खुद मां बनोगी तब  पता चलेगा और सच में खुद मां बनने पर मां की सच्ची अहमियत और ज्यादा पता लगने लगी, मेरी मां हमेशा से मेरी सबसे अच्छी दोस्त रही हैं.. मै हमेशा उनसे अपने सारी बाते शेयर करती हूं और मेरी मां हमेशा मुझे सही राय देती हैं। परिस्थितियां जैसी भी हो मेरी मां का प्यार मेरे लिए  कभी नहीं बदलता।
कई बार जब हम परेशानी में होते हैं या कहीं हल्की फुल्की सी भी चोट लगती है तो मुंह से जो शब्द निकलता है वह  मां होता है,ऐसा अटूट रिश्ता होता है मां से बच्चो का..

दुनिया मे माँ- बेटी का प्यार सबसे न्यारा होता है। 
मेरी मां ने मुझे बहुत कुछ सिखाया और बताया है..

जैसे गलत के खिलाफ आवाज़ उठाना बजाय सहने के।हर तरह के आपत्तिजनक व्यवहार का  मुंह-तोड़ जवाब देना । माँ के साथ एक बंधन दुनिया भर में mother day के रूप में मनाया जाता है। इस दुनिया में हमारे लिए सबसे ज्यादा स्पेशल माँ होती है। हम सबको माँओं से सबसे ज्यादा प्यार करना चाहिए, क्योंकि उनसे बड़ा और प्यारा दुनिया में कोई नहीं हैं।...

अंत में कुछ पंक्तियों द्वारा अपनी बातो को विराम दूगी..

ऊपर जिसका अंत नही, उसे आसमां  कहते है
जहां मे जिसका अन्त नही, उसे माँ  कहते  है।

हेमा खत्री,  मेंबर ऑफ़ फोकस हर लाइफ क्लब लखनऊ शाखा


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं