मां की बातें आज भी याद है:मां मेरा पहला प्यार

मां की बातें आज भी याद है:मां मेरा पहला प्यार

फीचर्स डेस्क। इस साल 9 मई को मदर्स डे है। वैसे तो मेरे देश में माँ का कोई मोल नहीं और ना ही कोई कर्ज उतार सकता है माँ का। फिर भी फोकस हर लाइफ लखनऊ क्लब शाखा की मेम्बर्स ने अपनी माँ के लिए कुछ चंद लाइने लेख के रूप में, कविता के रूप में, उनकी बताई बातें, उनकी कुछ यादगार पल हमारे साथ शेयर करने की बहुत सुंदर कोशिश की है। दरअसल, इनके इस प्रयास में और अच्छा कुछ करने की प्रोत्साहन के लिए focusherlife जो की एक वोमेंस स्पेशल हिन्दी आर्टिकल वेबसाइट हैं, एक “माँ कि बातें आज भी याद हैं” प्रतियोगिता रखी हैं। जिसमे सभी मेम्बर को अपनी माँ के लिए कुछ न कुछ लाइन लिखनी हैं। इस प्रतियोगिता का रिजल्ट 15 मई को घोषित किया जाएगा। जिसमे 3 विनर को मिलेगे प्राइज़। इसी क्रम में एक प्रतियोगी हैं पूजा खत्री जिन्होने माँ की बात याद कर के लिखा कि-

पहला अहसास है जो 
पहली सांस है जो 
पहला स्पर्श है जो 
पहला शब्द है जो 
दुनिया की गोद है जो 
मेरी रचना का संसार है जो 
ये मेरी मां है‌ जो 
वो मेरा पहला प्यार है जो 
मेरी आखिरी सांस है जो 
मेरे दुख की आस है जो 
मेरी सूख की मूक अभिव्यक्ति है जो  
बस वो मां है वो मां है वो मां है
नाल से आखिरी श्वास तक साथ है जो वो बस मां है मां है मां है।

पूजा खत्री, मेंबर ऑफ़ फोकस हर लाइफ क्लब लखनऊ शाखा


Click Here To See More

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकती हैं