Category : कविता

तुम याद आए: नैनो में हजारों सपने छाए

जब फौजी हो पति तो उसकी पत्नी के नसीब में होता है एक लंबा इंतजार। कब खत्म होगा ये इंतजार कब आएगी मिलन की बाहर। आंखे रहती है बेकरार...

Read More

मिलन का मौसम

तपती धरती की प्यास बुझाने   का मौसम। इजहार ए मोहब्बत उनसे करने का मौसम, प्रेम के गीत गुनगुनाने का  का मौसम।

Read More

 द्वार की दहलीज़ पर

द्वार की दहलीज़ पर बॉंट तकती हूँ तुम्हारी निर्निमेष से ये नयन, राह तकते हैं तुम्हारी भोर को न पा तुम्हें क्यों विह्वल हो जाती हूँ ,...

Read More